अगर गर्भ में हैं जुड़वा बच्चे तो मां को खाने चाहिए ये आहार

Health Services

Shared News By : Pooja Sinha

अगर आपको पता चले कि आप एक नहीं जुड़वा बच्‍चों की मां बनने वाली है फिर तो आपकी खुशी का ठिकाना नहीं रहेगा। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि जुडवा बच्‍चों की मां को अपने आहार में कुछ सुपर फूड्स का सेवन करना होगा?

जुड़वा बच्‍चों की मां बनने वाली है तो ये आहार है बेस्‍ट
मां बनना किसी सुखद अनुभव की तरह होता है, और अगर आपको पता चले कि आप एक नहीं जुड़वा बच्‍चों की मां बनने वाली है फिर तो आपकी खुशी का ठिकाना नहीं रहेगा। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि अगर जुडवा बच्‍चों का जन्‍म देने वाली हैं तो स्‍वस्‍थ रहने के लिए आपको कुछ सुपर फूड्स का सेवन करना होगा? क्‍योंकि गर्भावस्था के समय मां जितनी अधिक स्वस्थ होगी, बच्चे भी उसी के अनुसार स्वस्थ होगें। आज हम आपको बता रहें हैं कि जुड़वा बच्चों की मां बनने वाली महिलाओं को किस तरह के खाद्य-पदार्थों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।

दूध और दही
दूध में पोषक तत्‍व पर बहुत अधिक मात्रा में होते हैं। दूध में पाए जाने वाले पोषक तत्‍व बच्चे के शारीरिक विकास के लिए फायदेमंद होते है। इसमें प्रोटीन, पोटैशियम और फास्फोरस की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। इसका सेवन गर्भवती मां के साथ ही उसको बच्चों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके अलावा दही में कैल्शियम की प्रचुर मात्रा पाई जाती है और गर्भावस्था के समय में जुड़वा बच्चों की मां बनने वाली महिलाओं को कैल्शियम की बहुत अधिक आवश्यकता होती है। इसमें मां को बच्चों की हड्डियां और दांतों के विकास के लिए बहुत अधिक कैल्शियम की आवश्यकता होती है।
मछली और अंडा
मछली का सेवन करने से गर्भवती महिलाओं को सभी प्रकार के पोषक तत्व मिल जाते है, ये शरीर एवं सेहत दोनों के लिए फायदेमंद होते है। मछली में विटामिन ‘ई’ पाया जाता है। जो बच्चे के विकास के लिए महत्‍वपूर्ण है। इसके अलावा गर्भवती के लिए अंडा भी अच्‍छा होता है। अंडे में विभिन्न पोषक तत्व जैसे विटामिन, प्रोटीन और मिनरल प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो गर्भवती के साथ-साथ जुड़वां बच्चों के लिए भी फायदेमंद होते हैं।

चने और पालक
काबुली चना या काले चने, चना चाहे कोई भी हो इसमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। जो आपके बच्‍चे के शारीरिक विकास के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इससे बच्‍चे की मांसपेशियों को विकास उचित तरीके से होता है। गर्भावस्था के समय महिलाओं के शरीर में खून की कमी ना हो, इसके लिए उन्हें पालक का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए। पालक में आयरन तत्व अधिक मात्रा में होते है जो रक्त कोशिकाओं के बढ़ाने में सहायक होते है।

ड्राई फूट्स
ड्राई फ्रूट्स में विटामिन के साथ ओमेगा-3 फैटी एसिड भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो आपके बच्चों के लिए भरपूर पोषण का काम करती है।
ड्राई फ्रूट में एनर्जी की मात्रा बहुत अधिक होती है, जिससे गर्भवती महिला के मांसपेशियों को ताकत मिलती है।

Leave a Reply