Teacher’s Day 2020: Inspirational Quotes by Dr Sarvepalli Radhakrishnan on Education

Teacher’s Day 2020, Sarvepalli Radhakrishnan Quotes, Thoughts: Seek inspiration from these motivational quotes from one of India’s greatest academician. Sarvepalli Radhakrishnan Quotes: One of the most distinguished scholars of the 20th century, Sarvepalli Radhakrishnan’s birth anniversary is celebrated as Teacher’s Day on September 5 every year since 1962. Radhakrishnan, who served as the first Vice […]

Continue Reading

National Nutrition Week 2020: Are you vitamin D-deficient? Here’s what you need to know

‘Vitamin D is an essential vitamin that has myriad positive effects on several systems in the body. Unlike other vitamins, it functions like a hormone and every cell in your body has a receptor for it,’ says Dr Manish Sontakke The pandemic-induced lockdown has confined people to their houses for five months now. The resultant […]

Continue Reading

9 Ways to Boost Your Body’s Natural Defenses

An important note No supplement, diet, or lifestyle modification — aside from physical distancing, also known as social distancing, and practicing proper hygiene ⁠— can protect you from developing COVID-19. The strategies outlined below may boost your immune health, but they don’t protect specifically against COVID-19. Shared News If you want to boost your immune […]

Continue Reading

व्याकरण की परिभाषा

व्याकरण- व्याकरण वह विद्या है जिसके द्वारा हमे किसी भाषा का शुद्ध बोलना, लिखना एवं समझना आता है। भाषा की संरचना के ये नियम सीमित होते हैं और भाषा की अभिव्यक्तियाँ असीमित। एक-एक नियम असंख्य अभिव्यक्तियों को नियंत्रित करता है। भाषा के इन नियमों को एक साथ जिस शास्त्र के अंतर्गत अध्ययन किया जाता है […]

Continue Reading

लिपि किसे कहते है ?

लिपि -शब्द का अर्थ है-‘लीपना’ या ‘पोतना’ विचारो का लीपना अथवा लिखना ही लिपि कहलाता है। दूसरे शब्दों में- भाषा की उच्चरित/मौखिक ध्वनियों को लिखित रूप में अभिव्यक्त करने के लिए निश्चित किए गए चिह्नों या वर्णों की व्यवस्था को लिपि कहते हैं। हिंदी और संस्कृत भाषा की लिपि देवनागरी है। अंग्रेजी भाषा की लिपि रोमन पंजाबी […]

Continue Reading

भाषा के विविध रूप

हर देश में भाषा के तीन रूप मिलते है- (1) बोलियाँ (2) परिनिष्ठित भाषा (3) राष्ट्र्भाषा (1) बोलियाँ :- जिन स्थानीय बोलियों का प्रयोग साधारण अपने समूह या घरों में करती है, उसे बोली (dialect) कहते है। किसी भी देश में बोलियों की संख्या अनेक होती है। ये घास-पात की तरह अपने-आप जन्म लेती है […]

Continue Reading

भाषा का उद्देश्य

भाषा का उद्देश्य भाषा का उद्देश्य है- संप्रेषण या विचारों का आदान-प्रदान। भाषा के उपयोग भाषा विचारों के आदान-प्रदान का सर्वाधिक उपयोगी साधन है। परस्पर बातचीत लेकर मानव-समाज की सभी गतिविधियों में भाषा की आवश्यकता पड़ती है। संकेतों से कही गई बात में भ्रांति की संभावना रहती है, किन्तु भाषा के द्वारा हम अपनी बात […]

Continue Reading

भाषा के प्रकार

भाषा के तीन रूप होते है- (1)मौखिक भाषा (2)लिखित भाषा (3)सांकेतिक भाषा। (1)मौखिक भाषा :-विद्यालय में वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में वक्ताओं ने बोलकर अपने विचार प्रकट किए तथा श्रोताओं ने सुनकर उनका आनंद उठाया। यह भाषा का मौखिक रूप है। इसमें वक्ता बोलकर अपनी बात कहता है व श्रोता सुनकर उसकी […]

Continue Reading

Language or भाषा

भाषा वह साधन है, जिसके द्वारा मनुष्य बोलकर, सुनकर, लिखकर व पढ़कर अपने मन के भावों या विचारों का आदान-प्रदान करता है। दूसरे शब्दों में- जिसके द्वारा हम अपने भावों को लिखित अथवा कथित रूप से दूसरों को समझा सके और दूसरों के भावो को समझ सके उसे भाषा कहते है। सरल शब्दों में- सामान्यतः भाषा मनुष्य […]

Continue Reading