Dr. Kamini Verma of Lucknow, Hindi Literature Creator Award

Culture Activity

काव्य मंचीय शुचिता पर आधारित दो दिवसीय अखिल भारतीय साहित्यकार सम्मेलन संपन्न

दतिया की भूमि से प्रारंभ हुआ यह मंचीय शुचिता का आन्दोलन पूरे देश को दिशा देगा-डाॅ कमलेश शर्मा
दतिया ( मध्य प्रदेश ) – हिन्दी महोत्सव के 19 दिवसीय आयोजन के अर्तगत दो दिवसीय अखिल भारतीय साहित्यकार सम्मेलन का आयोजन स्थानीय रतन रायल इन होटल में किया गया। इस आयोजन में देश के विभिन्न प्रांतों से आये हुऐ लेखक, कहानीकार और मंचीय कवियों, साहित्यकारों ने भाग लिया। तीन सत्रों के आयोजित कार्यक्रम के पहले सत्र से ‘भाषा भूषण सम्मान-2019‘ के साथ-साथ देश के विभिन्न प्रांतो से आये 50 से अधिक साहित्यकारों को हिन्दी साहित्य सृजक सम्मान से विभूषित किया गया। वही दूसरे सत्र में मंचीय सुचिता विषय पर चर्चा की गई। तथा तीसरे सत्र में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के प्रथम सत्र में मुख्य अतिथि के रूप मे ग्वालियर जिले के पंजीयक डाॅ दिनेश गौतम रहे। वहीं अध्यक्षता साहित्यकार और जिला आवकारी अधिकारी अंशू सिंह भदौरिया ने की। विशेष अतिथि के रूप में लाॅर्ड कृष्णा कालेज के संचालक सुमित रावत, लिटिल फलावर स्कूल के संचालक मंनिन्दर सिंह, नागपुर से आई सीरियल रायटर डाॅ मधु गुप्ता और समाजसेवी अजय शर्मा रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियो द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यापर्ण से किया गया तत्पश्चात राज गोस्वामी सरस्वती प्रस्तुत की गयी। जिसके बाद अतिथियों का स्वागत पूरनचद शर्मा,ओमप्रकाश ओज,सोनल गुप्ता नेहा सोनी डाॅ महिमा शर्मा, डाॅ आशा मिश्रा,जगत शर्मा आदि ने किया। स्वागत भाषण अतिथि और कार्यक्रम परिचय संयोजक जगत शर्मा ने किया। कार्यक्रम के पहले सत्र में डाॅ कमलेश को भाषा भूषण सम्मान से अलंकृत किया गया। साथ ही देश के विभिन्न राज्यों से आये साहित्यकारों को ‘हिन्दी साहित्य सृजक सम्मान‘ से सम्मानित किया गया। इस सत्र का संचालन आयोजन समिति अध्यक्ष भानु शर्मा ने किया ।
दूसरे सत्र में हुई काव्य मंचीय शुचिता पर गंभीर चर्चा
कार्यक्रम के दूसरे सत्र में मंच पर अतिथि के रूप में एडीएम विवेक रघुवंशी,सेवढा नपं अध्यक्ष प्रतिनिधि और समाजसेवी धीरज महते, महोवा से आये साहित्यकार रामप्रकाश पुरवाल,और समाज सेवी अजय शर्मा मौजूद रहे। सत्र की अध्यक्षता डाॅ नियल गोस्वामी ने की वही संचालन रवि ठाकुर ने किया। सत्र के दौरान मुख्य वक्ता के रूप में डाॅ कमलेश शर्मा ने कहा कि पूरे देश में कविता और कवि सम्मेलन के मंच दूषित और विद्रूप हो रहे है। ऐसे में मंच की सुचिता के लिये किया जा रहा यह कार्यक्रम अंधेरे में दीपक का काम करेगा। उन्होने कहा कि दतिया साहित्य साधना की तपोस्थ्ली है। यहां से शुरू किया जा रहा काव्य मंचीय सुचिता का यह आन्दोलन पूरे देश के मंचीय कवियो और आयोजकों को दिशा दिखाने का काम करेगा। चर्चा सत्र में शिमला से आई साहित्यकार डाॅ प्रतिभा मेहता,लखनऊ की डाॅ कामिनी वर्मा, ग्वालियर की डाॅ ज्योत्सना सिंह,तेलंगाना से साहित्यकार श्रीमन्नारायण चारी,नागपुर से डाॅ मधु गुप्ता समेत करीब एक दर्जन विद्धानों ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम के अंतिम सत्र में अखिल भारतीय कवि सम्मेलन के दौरान मंच पर कांग्रेस नेता महेश गुलवानी,सुनील तिवारी,डाॅ मुकेश शर्मा,सुमित रावत मंनिन्दर सिंह राजेन्द्र गुप्ता रामस्वरूप् दिनकर और अजय शर्मा डाॅ कमलेश शर्मा,प्रतिभा मेहता,मधु गुप्ता, संध्या निगम,संजय राष्ट्रवादी, सहित करीब तीस कवियों ने काव्य पाठ किया। कवि सम्मेलन का संचालन पवन तूफान झांसी ने किया। कार्यक्रम में हरिहर शर्मा,कमलकांत शर्मा,आलोक सोनी,रोहित गुस्ताख़, राजेश मोर अमित शर्मा, पार्षद रामू शर्मा, परसराम शर्मा,सुन्दर श्रीवास्तव,कल्पना उदैनिया,राजेन्द्र खेगंर, डाॅ लखन सोनी,प्रशांत दांगी,कृष्णा साहनी,हैदर अली,वीरेन्द्र शर्मा,मनीराम शर्मा,बृजमोहन झा,कालकाप्रसाद तिवारी,शैलेश तिवारी,रामहजूर दांगी,वालकृष्ण वाथम,महेश अनुरागी,मानवेन्द्र तोमर, अतुल विधौलिया, मीनाक्षी कटारे, रजनी मुखरैया,प्रिया गुप्ता,शेखू तिवारी रिषभ सक्सैना,उमाचरण शर्मा अक्षेश श्रीवास्तव,लोकेन्द्र श्रीवास्तव,उपस्थित रहे।
हिन्दी साहित्य सृजक सम्मान से सम्मानित साहित्यकार-
डाॅ प्रतिभा मेहता शिमला,अर्चित मेहता शिमला,डाॅ मधु गुप्ता नागपुर, पत्रकार शशिधर शुक्ला दिल्ली, काशी नरेश राजकीय महाविद्यालय ज्ञानपुर, भदोही की डॉ कामिनी वर्मा ,श्रीमन्नारायण चारी निजामावाद तेलांगाना,कपिल शर्मा गुना,संजय राष्टवादी,पवन तूफान,राकेश वीरकमल,राहुल दुवे,संध्या निगम,अभिषेक प्रज्ञान,धमेन्द्रकुमार,राकेश सोनी सीमा सिंह झांसी,रामस्वरूप् दिनकर,संतकुमार आगरा, अद्वितीय राजौरिया डबरा,संतोष पटैरिया,श्यामविहारी निगम,ओमप्रकाष तिवारी,रामप्रकाश पुरवाल महोवा,सुशील खरे पन्ना,गीताजंली सिसौदिया,रविकांत श्रीवास्तव,कृष्णा सिंह,मीना श्रीवास्तव,अक्षय दुवे, अतिम शर्मा महासमर,मंजूलता आर्य,ज्योत्सना सिंह,ज्योति उपाध्याय ग्वालियर,महेष पाण्डे उरई,सुधीन्द्र कुमार हापुड,अरूण नागर उरई,प्रेमकुमार पाठक उरई,इंद्रकुमार शर्मा दिल्ली,डाॅ शरदनारायण खरे,डाॅ नीलम खरे मण्डला,कृष्णमुरारी चतुर्वेदी बूदी आदि साहित्यकार हिन्दी साहित्य सृजक सम्मान से विभूषित किये गये।

Leave a Reply