Pakistan Election Results धांधली के आरोप के बीच पाक में रोके गए चुनाव नतीजे

Politics

शुरुआती रुझानों में इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ(पीटीआई) को बढ़त मिलती दिख रही है।


जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। पाकिस्तान में त्रिशंकु संसद के आसार हैं। नई सरकार चुनने के लिए बुधवार को नेशनल असेंबली यानी संसद की 272 में से 270 सीटों पर हुए मतदान के बाद मतगणना के रुझान यही कह रहे हैं। दो सीटों पर प्रत्याशियों के निधन के कारण चुनाव स्थगित हो गए थे। 230 सीटों के रुझानों में पूर्व क्रिकेटर इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) 114 सीटों में आगे चल रही है। पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी मुस्लिम लीग (नवाज) 63 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर है। पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 42 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर चल रही हैं। जाहिर है कि त्रिशंकु नेशनल असेंबली की सूरत में जरदारी ‘किंगमेकर’ साबित हो सकते हैं।


मुहाजिरों की पार्टी एमक्यूएम 5 सीटों पर आगे है। 13 सीटों पर निर्दलीय भी आगे चल रहे हैं। पाकिस्तान की संसद नेशनल असेंबली के साथ चार प्रांतों की विधानसभाओं के लिए बुधवार को ही एक साथ मतदान कराया गया। बुधवार रात से जारी मतगणना गुरुवार सुबह रोक दी गई है, क्योंकि चुनाव आयोग पर धांधली के आरोप लगे हैं। आधी रात के बाद कोई भी परिणाम घोषित नहीं किए जाने के बाद यह सवाल उठे हैं। अब तक सामने आए रुझानों के मुताबिक, इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ ने बढ़त बना ली है। दूसरे नंबर पर पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज पार्टी बताई जा रही है। पार्टी नेता शहबाज शरीफ ने रुझानों की शक्ल में आ रहे नतीजों को मानने से इंकार कर दिया है।


पाकिस्तान में बुधवार की शाम छह बजे मतदान समाप्त होने के तुरंत बाद वोटों की गिनती शुरू हो गई। चुनाव आयोग ने नतीजे 24 घंटे के भीतर घोषित कर देने की बात कही है। सुरक्षित चुनाव कराने के लिए देशभर में सेना के 3.70 लाख जवानों के अलावा 4.50 लाख पुलिसकर्मी भी तैनात किए गए थे।

इमरान पांच सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से कराची पूर्व की सीट उन्होंने जीत ली है। हैरत की बात यह है कि बाकी चारों सीटों यानी लाहौर, बन्नू, रावलपिंडी और मियांवलीपर में भी वह काफी आगे चल रहे हैं। वे पार्टी के 22 साल के इतिहास में अब तक की सबसे ज्यादा सीटें जीतने की उम्मीद कर रहे हैं।


क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पाकिस्तान आम चुनाव में उनकी पार्टी सबसे बड़े दल के रूप में उभरते हुए नजर आ रही है। इसलिए उनके आवास के करीब सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कहा जाता है कि इमरान को सेना और खुफिया एजेंसी आइएसआइ का समर्थन है।

पीपीपी के अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी 25 साल में पहली बार नेशनल असेंबली के सदस्य बनेंगे। इससे पहले वह 1993 में नेशनल असेंबली के लिए चुने गए थे। पीपीपी के सह-अध्यक्ष और जरदारी के पुत्र बिलावल भुट्टो ल्यारी और लरकाना-2 में आगे चल रहे हैं। वैसे वह कुल चार सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। बिलावल का यह पहला चुनाव है।


जागरण न्यूज नेटवर्क, नई दिल्ली। पाकिस्तान में त्रिशंकु संसद के आसार हैं। नई सरकार चुनने के लिए बुधवार को नेशनल असेंबली यानी संसद की 272 में से 270 सीटों पर हुए मतदान के बाद मतगणना के रुझान यही कह रहे हैं। दो सीटों पर प्रत्याशियों के निधन के कारण चुनाव स्थगित हो गए थे। 230 सीटों के रुझानों में पूर्व क्रिकेटर इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) 114 सीटों में आगे चल रही है। पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी मुस्लिम लीग (नवाज) 63 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर है। पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 42 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर चल रही हैं। जाहिर है कि त्रिशंकु नेशनल असेंबली की सूरत में जरदारी ‘किंगमेकर’ साबित हो सकते हैं।


मुहाजिरों की पार्टी एमक्यूएम 5 सीटों पर आगे है। 13 सीटों पर निर्दलीय भी आगे चल रहे हैं। पाकिस्तान की संसद नेशनल असेंबली के साथ चार प्रांतों की विधानसभाओं के लिए बुधवार को ही एक साथ मतदान कराया गया। बुधवार रात से जारी मतगणना गुरुवार सुबह रोक दी गई है, क्योंकि चुनाव आयोग पर धांधली के आरोप लगे हैं। आधी रात के बाद कोई भी परिणाम घोषित नहीं किए जाने के बाद यह सवाल उठे हैं। अब तक सामने आए रुझानों के मुताबिक, इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ ने बढ़त बना ली है। दूसरे नंबर पर पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज पार्टी बताई जा रही है। पार्टी नेता शहबाज शरीफ ने रुझानों की शक्ल में आ रहे नतीजों को मानने से इंकार कर दिया है।


इमरान के चुनाव जीतने पर पाक सेना और कट्टरपंथी बनेंगे भारत के लिए बड़ी बाधा
यह भी पढ़ें
पाकिस्तान में बुधवार की शाम छह बजे मतदान समाप्त होने के तुरंत बाद वोटों की गिनती शुरू हो गई। चुनाव आयोग ने नतीजे 24 घंटे के भीतर घोषित कर देने की बात कही है। सुरक्षित चुनाव कराने के लिए देशभर में सेना के 3.70 लाख जवानों के अलावा 4.50 लाख पुलिसकर्मी भी तैनात किए गए थे।

इमरान ने एक सीट जीती, चार पर आगे

नवाज शरीफ के भाई बोले, पाकिस्तान को भारत से बेहतर न बना दिया तो….


इमरान पांच सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से कराची पूर्व की सीट उन्होंने जीत ली है। हैरत की बात यह है कि बाकी चारों सीटों यानी लाहौर, बन्नू, रावलपिंडी और मियांवलीपर में भी वह काफी आगे चल रहे हैं। वे पार्टी के 22 साल के इतिहास में अब तक की सबसे ज्यादा सीटें जीतने की उम्मीद कर रहे हैं।

भावी पीएम की सुरक्षा बढ़ी

इमरान खान का पाकिस्तान का PM बनना तय,पढ़िए क्रिकेटर से राजनेता बनने तक का सफर
यह भी पढ़ें
क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पाकिस्तान आम चुनाव में उनकी पार्टी सबसे बड़े दल के रूप में उभरते हुए नजर आ रही है। इसलिए उनके आवास के करीब सुरक्षा बढ़ा दी गई है। कहा जाता है कि इमरान को सेना और खुफिया एजेंसी आइएसआइ का समर्थन है।



जरदारी और बिलावल भी आगे

पाक चुनाव पर भारत की पैनी नजर, नई सरकार पर लगीं देश की निगाहें



पीपीपी के अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी 25 साल में पहली बार नेशनल असेंबली के सदस्य बनेंगे। इससे पहले वह 1993 में नेशनल असेंबली के लिए चुने गए थे। पीपीपी के सह-अध्यक्ष और जरदारी के पुत्र बिलावल भुट्टो ल्यारी और लरकाना-2 में आगे चल रहे हैं। वैसे वह कुल चार सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। बिलावल का यह पहला चुनाव है।

पंजाब नवाज तो सिंध बिलावल के साथ


प्रांतीय चुनावों में पंजाब में नवाज की पार्टी पीएमएल-एन 131 सीटों में बढ़त के साथ साधारण बहुमत के करीब पहुंच चुकी है। पीटीआइ 112 सीटों पर आगे है। पंजाब प्रांत की कुल 297 सीटों में से 257 के रुझान ही उपलब्ध हैं। पंजाब में पीटीआइ नेशनल असेंबली की 59 सीटों पर भी आगे है। गौरतलब है कि इस समय नवाज शरीफ अपनी बेटी और दामाद के साथ भ्रष्टाचार के आरोपों में जेल में बंद हैं। उधर, सिंध विधानसभा में अपने परंपरागत गढ़ में पीपीपी 60 सीटों में बढ़त बनाकर सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। यहां कुल 131 सीटों में से केवल 92 सीटों के ही रुझान मौजूद हैं। जबकि खैबर पख्तूनख्वा में पीटीआइ 99 सीटों में से 18 पर आगे चल रही है। आवामी लीग में छह विधानसभा सीटों पर आगे है।



आंकड़ों में पाक की जम्हूरियत-342 सीटें हैं पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में – 272 सीटों पर होता है प्रत्यक्ष चुनाव-60 सीटें महिलाओं और 10 सीटें धार्मिक अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित। इनका अप्रत्यक्ष निर्वाचन होता है।इन सीटों का आवंटन चुनाव में दलों को मिलने वाले वोटिंग फीसद के आधार पर होता है-नेशनल असेंबली के लिए चुनाव मैदान में 3,459 उम्मीदवार-चार प्रांतीय विधानसभाओं की 577 सीटों के लिए 8,396 प्रत्याशी।



पल-पल का अपडेट

– पहले दौर में अब तक मिले रुझानों में पीटीआइ 110 सीटों पर आगे है, जबकि नवाज की पार्टी (पीएमएल-एन) 69 पर। बिलावल भुट्टो की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 38 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर चल रही हैं। 54 सीटें अन्य के खाते में जाती दिख रही है।



– पूर्व राष्ट्रपति व पीपीपी नेता आसिफ अली जरदारी NA-213 नवाबशाह से आगे

– पीटीअाई के गुलाम सरवर NA-59 रावलपींडी से अागे चल रहे हैं।

– पीटीअाई के मोहम्मद शफीक NA-161 लोधरन-2 से अागे चल रहे हैं।

– पीएमएल(एन) के अमिर मुकाम NA-29 से अागे चल रहे हैं।

मतदान के दौरान आत्मघाती धमाका, 35 की मौत
बुधवार को मतदाताओं ने भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच वोट डाले। इस दौरान देश के कई इलाकों में हुई हिंसा और आतंकी हमलों में 35 लोग मारे गए जबकि 67 लोग घायल हैं। अशांत बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा के एक मतदान केंद्र के बाहर आत्मघाती धमाका भी हुआ। यह धमाका एक पुलिस वैन को निशाना बनाकर किया गया।


वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एजाज गोराया ने बताया कि आत्मघाती हमलावर क्वेटा के पूर्वी बाईपास के पास स्थित एक पोलिंग स्टेशन में घुसना चाहता था। भारी सुरक्षा व्यवस्था के चलते वह इसमें सफल नहीं हो पाया। इसके बाद वह पोलिंग स्टेशन के पास खड़ी एक पुलिस वैन के पास गया और धमाका कर दिया।

डीआईजी के काफिले पर भी हमला
मीडिया में आई खबरों के अनुसार, क्वेटा के डीआइजी अब्दुल रजाक चीमा के काफिले पर भी हमला किया गया। वह हालांकि सुरक्षित बताए गए हैं। खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्वाबी जिले के एक मतदान केंद्र के बाहर इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) और अवामी नेशनल पार्टी (एएनपी) के कार्यकर्ता भीड़ गए। इसमें पीटीआइ के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई और दो घायल हो गए। मीरपुरखास के पोलिंग स्टेशन के बाहर फायरिंग में एक अन्य व्यक्ति मारा गया।


मरदाना, राजनपुर, खिप्रो और कोहिस्तान समेत कई स्थानों पर हिंसा के चलते मतदान रोकना पड़ा। इससे पहले पाकिस्तान के 85 हजार से ज्यादा मतदान केंद्रों पर सुबह आठ बजे मतदान शुरू हुआ। कई मतदान केंद्रों पर सुबह सात बजे से ही वोटरों की कतारें लग गई थी। शाम छह बजे मतदान समाप्त होने के तुरंत बाद वोटों की गिनती शुरू हो गई। चुनाव आयोग ने नतीजे 24 घंटे के भीतर घोषित कर देने की बात कही है। सुरक्षित चुनाव कराने के लिए देशभर में सेना के 3.70 लाख जवानों के अलावा 4.50 लाख पुलिसकर्मी भी तैनात किए गए थे।

एक साथ हुए संसदीय और प्रांतीय चुनाव
पाकिस्तान की संसद नेशनल असेंबली की 272 सीटों और चार प्रांतों की विधानसभाओं के लिए बुधवार को एक साथ मतदान कराया गया। चुनाव मैदान में पीएमएल-एन, पीटीआइ और बिलावल भुट्टो की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) समेत 30 ज्यादा पार्टियां खड़ी हैं।



नामचीन हस्तियों ने किया मतदान
राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने पत्नी के साथ कराची में मतदान किया। जबकि चीफ जस्टिस साकिब निशान ने लाहौर में वोट डाला। पूर्व क्रिकेटर वसीम अकरम अपनी मां के साथ मतदान करने पहुंचे। अभिनेत्री समीना पीरजादा ने ट्विटर पर स्याही लगी अंगुली के साथ अपनी तस्वीर साझा की।

पाक चुनाव की अहम बातें

-342 सदस्यीय नेशनल असेंबली की 272 सीटों के लिए सीधे चुनाव

-बहुमत के लिए 137 सीटें जीतना जरूरी

-संसद की 70 सीटें महिलाओं और अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित

– इन सीटों का आवंटन चुनाव में दलों को मिलने वाले वोटिंग फीसद के आधार पर होता है

-नेशनल असेंबली के लिए चुनाव मैदान में 3,459 उम्मीदवार

-चार प्रांतीय विधानसभाओं की 577 सीटों के लिए 8,396 प्रत्याशी।



Leave a Reply